क्विंटन डी कॉक ने SA20 के लिए डरबन सुपर जायंट्स के कप्तान का नाम दिया

क्विंटन डी कॉक ने SA20 के लिए डरबन सुपर जायंट्स के कप्तान का नाम दिया

फ्रेंचाइजी क्रिकेट में SA20 लीग के अगली बड़ी चीज होने की उम्मीद है। लीग 11 जनवरी से शुरू होने वाली है। इस टूर्नामेंट की खासियत यह है कि सभी टीमों का स्वामित्व आईपीएल फ्रेंचाइजी के पास है, जिससे हम रोमांचक एक्शन की उम्मीद कर सकते हैं।

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (CSA) ने इस लीग को शुरू करके एक बड़ा जोखिम उठाया है क्योंकि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ODI लेग फिक्स्चर को छोड़ दिया था। दक्षिण अफ्रीका वर्तमान में 16 मैचों में 59 अंकों के साथ विश्व सुपर लीग तालिका में 11वें स्थान पर है और विश्व कप 2023 के लिए सीधी योग्यता खोने के कगार पर है।

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका
क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका. फोटो क्रेडिट: ट्विटर।

क्विंटन डी कॉक नामित डरबन सुपर जायंट्स कप्तान

डरबन सुपर जायंट्स ने अपने नाम किया है क्विंटन डी कॉक उद्घाटन सत्र के लिए कप्तान के रूप में। क्विंटन ने टीम की कप्तानी की है क्योंकि उनके पास एक छोटा कार्यकाल था जहां उन्होंने 4 टेस्ट, 8 एकदिवसीय और 11 टी20ई में टीम का नेतृत्व किया। बाएं हाथ का यह तेजतर्रार बल्लेबाज जानता है कि टीम को तेज शुरुआत कैसे देनी है जो आधुनिक क्रिकेट में काफी अमूल्य है। टी20 क्रिकेट में उनके नाम 33 की औसत और 138 की स्ट्राइक रेट से 8497 रन हैं।

रिले रोसौव और क्विंटन डी कॉक
रिले रोसौव और क्विंटन डी कॉक (छवि क्रेडिट: ट्विटर)

क्विंटन डी कॉक अमूल्य

डरबन सुपर जायंट्स फ्रैंचाइज़ी का निर्णय फलदायी हो सकता है क्योंकि आईपीएल 2022 में बल्लेबाज ने 508 रन बनाए थे जहाँ उसने 3 अर्धशतक और 1 शतक लगाया था। लखनऊ सुपर जायंट्स (एलएसजी) ने प्लेऑफ़ में जगह बनाई थी और उन्होंने इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

क्विंटन डी कॉक और केएल राहुल। फोटो- आईपीएल
क्विंटन डी कॉक और केएल राहुल। फोटो- आईपीएल

डरबन सुपर जायंट्स 11 जनवरी को जोहान्सबर्ग सुपर किंग्स से भिड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार है। प्रबंधन को पता होगा कि कप्तानी से क्विंटन के खेल पर असर पड़ सकता है। संभावना है कि क्विंटन दूसरी फिउड खेल सकते हैं क्योंकि उनके पास टीम के लिए महत्वपूर्ण पारी खेलने की क्षमता है। मुख्य कोच लांस क्लूजनर के पास पहले सत्र में कड़ी मेहनत होगी। ऑलराउंडर जेसन होल्डर की भूमिका बेहद अहम होगी क्योंकि वह क्रीज पर युवाओं का मार्गदर्शन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: IND vs NZ: “बीसीसीआई को भी आगे बढ़ना चाहिए और अन्य सभी ओलंपिक खेलों को राजस्व का 50 प्रतिशत देना चाहिए” – पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर

Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: